गीता के ये 5 अनमोल वचन जीवन के हर मोड़ पर आएंगे आपके काम, जानें जरूर

श्रीमद्भगवतगीता में जो उपदेश दिए गए हैं उनमें जीवन के हर पहलू और हर अवस्‍था का पूरा सार छिपा है। इन वचनों में जीवन के हर अनुभव के बारे में विस्‍तार से बताया गया है। व्‍यक्ति के जन्‍म लेने से मृत्‍यु तक और उसके बाद के चक्र को श्रीमद्भगवतगीता में विस्‍तार से बताया गया है। इन वचनों में से हम आपको बता रहे हैं ऐसे 5 वचनों के बारे में जो आपके जीवन में हर मोड़ पर आपके काम आएंगे…

5/5ऐसा व्‍यक्ति कभी खुश नहीं रहता

गीता के उपदेश में बताया गया है कि जो व्‍यक्ति बिना वजह किसी पर संदेह करता है वह कभी खुश नहीं रह सकता। संदेह करने पर रिश्‍तों में कड़वाहट पैदा होती है।

4/5ये तीन हैं नरक के द्वार

गीता में बताया गया है कि वासना, गुस्‍सा और लालच-ये तीनों चीजें नरक के द्वार हैं। अगर आपको सुखी रहना है तो आपको इन तीनों चीजों से दूर रहना चाहिए।

3/5इस पर शोक करना व्‍यर्थ है

गीता में कहा गया है कि जो भी जीव जन्‍म लेता है उसकी मृत्‍यु भी निश्चित है। इसलिए जो चीज निश्वित है उसके लिए शोक या पछतावा किस बात का है।

2/5ऐसे व्‍यक्ति को करनी चाहिए भलाई

गीता के सार में बताया गया है कि अगर कोई व्‍यक्ति बुद्धिमान है तो उसे समाज की भलाई के लिए भी काम करना चाहिए। ऐसे व्‍यक्ति को बिना किसी स्‍वार्थ के समाज के लिए भी योगदान देना चाहिए।

1/5ऐसा व्‍यक्ति भगवान को प्राप्‍त करता है

गीता के उपदेशों में एक यह भी है कि जो व्‍यक्ति भगवान को याद करते हुए मृत्‍यु को प्राप्‍त होता है वह सीधा भगवान के धाम को प्राप्‍त होता है।

Leave a Comment